हिन्दी साहित्य

आधुनिक काल

हिंदी साहित्य का आधुनिक काल भारत के इतिहास के बदलते हुए स्वरूप से प्रभावित था। स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्रीयता की भावना का प्रभाव साहित्य में भी आया। भारत में औद्योगीकरण का प्रारंभ होने लगा था। आवागमन के साधनों का विकास हुआ। अंग्रेजी और पाश्चात्य शिक्षा का प्रभाव बढा और जीवन में बदलाव आने लगा।

आधुनिक कालपद्य

 

आधुनिक काल का परिचय

भारतेन्दु युग या नवजागरण काल

भारतेन्दु युग के प्रमुख कवि

द्विवेदी युग या जागरण सुधार काल

द्विवेदी युग के प्रमुख कवि

छायावादी युग

प्रमुख छायावादी कवि

प्रगतिवाद

प्रमुख प्रगतिवादी कवि

प्रयोगवाद

प्रमुख प्रयोगवादी कवि

नई कविता तथा इसके कवि

आधुनिक काल के प्रमुख कवि

छायावाद के आधार स्तंभ

मैथिलीशरण गुप्त

बालकॄष्ण शर्मा नवीन

सुभद्राकुमारी चौहान

माखनलाल चतुर्वेदी

दिनकर

नागार्जुन

अज्ञेय

मुक्तिबोध

जयशंकर प्रसाद

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

महादेवी वर्मा

सुमित्रानंदन पंत

आधुनिक काल की प्रमुख कवितायें

निःशस्त्र सेनानी

नदी के द्वीप

वीरों का कैसा हो बसंत

झाँसी की रानी की समाधि पर

कैदी और कोकिला

सखि वे मुझसे कह कर जाते

कुकुरमुत्ता

राम की शक्ति पूजा

अकाल और उसके बाद

कुरुक्षेत्र

ब्रह्मराक्षस

लज्जा-कामायनी

श्रद्धा – कामायनी

  चिंता – कामायनी

आधुनिक कालगद्य की अन्य विधाएं

नाटक

आधुनिक गद्य साहित्य का इतिहास

हिन्दी नाटक का उद्भव और विकास

नाट्यभाषा     नाट्य-समीक्षा

जयशंकर प्रसाद- स्कंदगुप्त

मोहन राकेश- आषाढ़ का एक दिन

भारतेंदु- भारत दुर्दशा

रेखाचित्र

संस्मरण

जीवनी

आत्मकथा

डायरी

रिपोर्ताज

यात्रा वृत्तांत

पत्र

निबंध

उपन्यास

हिन्दी निबंध का इतिहास

रामचँद्र शुक्ल- कविता क्या है?

                         श्रद्धा और भक्ति

बालकॄष्ण भट्ट- साहित्य जनसमूह के हॄदय

                             का विकास है

हजारीप्रसाद द्विवेदी – कुटज

अज्ञेय- संवत्सर

कुबेरनाथ राय- उत्तराफाल्गुनी के आसपास

 

हिन्दी उपन्यास का उद्भव और विकास

उपन्यास और यथार्थवाद

प्रेमचंद गोदान: कथावस्तु, चरित्रांकन यथार्थवाद, रचनादॄष्टि, भाषा-शिल्प महाकाव्यात्मकता, समकालीनता

यशपाल- दिव्या

मन्नू भंडारी- महाभोज

अज्ञेय शेखर-एक जीवनी

रेणु- मैला-आँचल

कहानी

आलोचना

हिन्दी कहानी का इतिहास

उषा प्रियंवदा वापसी

महादेवी वर्मा लछमा(रेखाचित्र)

प्रेमचंद – बड़े घर की बेटी,  कफ़न, ईदगाह, सभ्यता का रहस्य, ठाकुर का कुआँ,अलग्योझा  पूस की रात

समानान्तर कहानियाँ - राजेन्द्र यादव

हिन्दी आलोचना का इतिहास

समीक्षा के सिद्धांत

आचार्य रामचँद्र शुक्ल

हजारीप्रसाद द्विवेदी

रामविलास शर्मा

डाँ. नगेन्द्र

प्रमुख आलेख

 

हिन्दी भाषा और साहित्य

भाषा गणना के जार्ज ग्रियर्सन

हिन्दी उपन्यासों में नारी

महिला लेखन

हिन्दी साहित्य : स्वतथा पर

हिन्दी साहित्य पर बाह्य प्रभाव

साहित्य में राष्ट्रीयता का उद्भव

समकालीन हिन्दी कहानिया:स्त्री जीवन

आधुनिक काव्य-आलोचना की अवधारणा

समकालीन कथा साहित्य

हिन्दी साहित्य में नारी के बदलते रूप

भारतीय संविधान में हिन्दी भाषा

राजभाषा नीति, नियम तथा अधिनियम

भक्ति आन्दोलन की पुनर्व्याख्या

मिथिलेश वामनकर

       

 

18 Responses to "आधुनिक काल"

I need the related topic notes :-1.HIndi bhasha ka vikas,Hindi,Hindui, Khadi boli,Sahityaik bhasa ka vikas, 2.Adhunik yug me hindi bhasha ka vikas fort willam college,Hindi patrakarita, Bhart sangh ki bhasha ke rup

i can’t open any thing in the section of adhunik kaal excluding rachnaye………….so pls do lock off for that section than we can see the all study material…………

aapka hindi sahityka aadunik kaal 60 saal budha hai, ye aadhunki nahin ab puratan kaal banchuka hai.

Dear Sir,

We are unable to open any link in this section (Aadhunik kaak)

Pls try to solve the problem.

uday

is section me kuch bhi khul nahi raha hai.Please lock hataye.

आप का प्रयास अत्‍यन्‍त सराहनीय है और हिन्‍दी पट़टी के लोगों के लिए प्रेरणा प्रद है, इससे हिन्‍दी के विद्यार्थियों का लाभ तो होगा ही साथ ही साथ हिन्‍दी भाषा की महत्‍ता और पुष्‍ट होगी I
इस गुरूत्‍तर प्रयास,सोच एवं लगन आादि के लिए मैं आपकी मुक्‍त कंठ से सराहना करना चाहूंगा I
धन्‍यवाद एवं शुभकामनाएं I
कौशल कुमार भारती

Apke jankari aachi hai pr esko pura padh paye aisa prayas karo. thanks

अच्छा ह विद्यार्थियों के लिया सुविधा ह

maine apki site ko dekha. site par sambandhit matter khul nahi raha hai.

आधुनिक काल के बारे में अभी बहुत कम जानकारी लोगों को मिल पार्इ है. जो अच्छे लेखक है, जिनकी लेखनी की धार आज भी युवाओं का हृदय परिवर्तित करने की ताकत रखती है, वे पाठको से परे हैं. ऐसे लेखकों को सामने लाकर पुनीत कार्य करने की जरूरत है. वैसे आपका प्रयास सराहनीय है. निश्चित रुप से इसी प्रकार का प्रयास हर साहित्य प्रेमी करने लगे तो साहित्य का पूरा सच लोगों के सामने आ जाएगा.
प्रोफेसर डॉ. योगेन्द्र यादव
गॉंधीयन स्कालर एवं प्राध्यापक- हिन्दी साहित्य एवं भाषा विज्ञान

i need hindi swatntrottar natak sahitya after 1990 to til 2012

Dear Sir,

I proud of my indian language hindi .this is very easy language
Hindi is our mother tounge

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

प्रत्याख्यान

यह एक अव्यवसायिक वेबपत्र है जिसका उद्देश्य केवल सिविल सेवा तथा राज्य लोकसेवा की परीक्षाओं मे हिन्दी साहित्य का विकल्प लेने वाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है। यदि इस वेबपत्र में प्रकाशित किसी भी सामग्री से आपत्ति हो तो इस ई-मेल पते पर सम्पर्क करें-

mitwa1980@gmail.com

आपत्तिजनक सामग्री को वेबपत्र से हटा दिया जायेगा। इस वेबपत्र की किसी भी सामग्री का प्रयोग केवल अव्यवसायिक रूप से किया जा सकता है।

संपादक- मिथिलेश वामनकर

वेबपत्र को देख चुके है

  • 657,376 लोग

आपकी राय

Anil Ahirwar on जगनिक का आल्हाखण्ड
Afjalur Hoque Dewan on केशवदास

कैलेण्डर

अप्रैल 2014
सो मँ बु गु शु
« अग    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930  

वेब पत्र का उद्देश्य-

मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, छत्तीसगढ, बिहार, झारखण्ड तथा उत्तरांचल की पी.एस.सी परीक्षा तथा संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा के हिन्दी सहित्य के परीक्षार्थियो के लिये सहायक सामग्री उपलब्ध कराना।

यह वेब पत्र सिविल सेवा परीक्षा मे हिन्दी साहित्य विषय लेने वाले परीक्षार्थियो की सहायता का एक प्रयास है। इस वेब पत्र का उद्देश्य किसी भी प्रकार का व्यवसायिक लाभ कमाना नही है। इसमे विभिन्न लेखो का संकलन किया गया है। आप हिन्दी साहित्य से संबंधित उपयोगी सामगी या आलेख यूनिकोड लिपि या कॄतिदेव लिपि में भेज सकते है। हमारा पता है-

mitwa1980@gmail.com

- संपादक

भारत के सर्वश्रेष्ट ब्लॊग

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 63 other followers

%d bloggers like this: