हिन्दी साहित्य

अपभ्रंश:भाषा-प्रवाह तथा विशेषतायें

Posted on: सितम्बर 1, 2008

अपभ्रंश:भाषा-प्रवाह तथा विशेषतायें
वैदिक, भाषा, साहित्य, संस्कृति तथा इतिहास के अध्ययन से अब यह स्पष्ट हो गया है कि वेदों के रचना-काल में तथा उसके भी पूर्ववर्ती युग में जनभाषा में तथा साहित्यिक भाषा में भाषिक ही नहीं, शब्द-रुपों की रचना में भी अन्तर था। यह अन्तर कई स्तरों पर लक्षित होता है। जैसे-कि उच्चारण, रूप-रचना, वैकल्पिक प्रयोग, अन्य भाषाओं से गृहीत शब्दावली, दैवीवाक्-मानुषीवाक् के रूप में।
 
ऋग्वेद के उल्लेख से यह पता चलता है कि पणियों और असुरों की भाषा ‘मृध्रवाक्’ थी। यद्यपि निरुक्तकार ने ‘मृध्रवाक्’ का अर्थ ‘मृदु वाचः’ किया है, किन्तु परवर्ती काल में यह शब्द ‘विभाषा’ या ‘अपशब्द’ के लिए रूढ़ हो गया। शतपथब्राह्मण तथा महाभाष्य के उल्लेखों से यह निश्चित हो जाता है कि एक को सुरभाषा तथा दूसरी को असुरभाषा कहते हैं।
 
ऋग्वेद में भी यह उल्लेख मिलता है कि राष्ट्र की सामान्य जनता से सम्पर्क करने वाला यह विचार करता है कि मैं संस्कृत या दैवीवाक् में बोलूँ या जनभाषा में ? यही नहीं भाषा की दृष्टि से ऋग्वेद तथा अथर्ववेद इन दोनों की भाषा में अन्तर है। ऋग्वेद की भाषा साहित्यिक है किन्तु अथर्ववेद में जनभाषा के रूप उपलब्ध होते हैं। भाषावैज्ञानिकों ने ‘छान्दस्’ भाषा में प्रयुक्त वट, तट, वाट, कट, विकट, कीकट, निकट, दण्ड, अण्ड, पट, घट, क्षुल्ल आदि शब्दों को कथ्य भाषा (प्राकृत) से अधिगृहीत स्वीकार किया है। डॉ. नेमिचन्द्र शास्त्री के शब्दों में, ‘‘छान्दस् भाषा की पद-रचना का अध्ययन प्राकृत अध्ययन के बिना अपूर्ण है ‘छान्दस्’ में तृतीया के बहुवचन में ‘देव’ शब्द का देवेभिः (ऋग्वेद १।१।१) और प्रथमा के बहुवचन में देव एवं जन शब्द का क्रमशः देवा, देवासः जना एवं जनासः (ऋग्वेद १।३।७) रूप पाये जाते हैं जो कि प्राकृत के रूप है।
 
इसी प्रकार चतुर्थी के लिए षष्ठी विभक्ति का प्रयोग तथा पाटी के लिए चतुर्थी विभक्ति का प्रयोग भी प्राकृत तत्त्व-सिद्धि के लिए पर्याप्त प्रमाण है। इसी प्रकार अकारान्त शब्द का प्रथमा के एक वचन में ओकारान्त हो जाना ही प्राकृत-तत्त्व की जानकारी के अभाव में यथार्थ रूप में विश्लेषित नहीं किया जा सकता है। यथा-सः चित्सो चित् (ऋग्वेद १।१९१।११) संवत्सरः अजायतसंवत्सरों अजायत (ऋग्वेद १०।१९०।२)। वैयाकरण पाणिनि ने ‘छान्दस्’ की इस प्रवृत्ति का नियमन करने के लिए ‘हशि च’ (६।१।१४४) एवं ‘अतोरोरप्लुतादप्लुते’ (६।१।११३) सूत्र लिखे हैं।
 
वस्तुतः इन सूत्रों के मूल उद्देश्य ओकारान्त वाले प्रयोगों का साधुत्व प्रदर्शित करना है और प्राकृत के मूल शब्दों पर संस्कृत का आवरण डाल देना है। विसर्ग सन्धि के कतिपय नियम भी ‘छान्दस्’ की प्राकृत प्रवृत्ति के संस्कृतीकरण के लिए ही लिखे गये हैं।”
यद्यपि भारतीय आर्यभाषाओं के इतिहास में समकालिक विवरण निर्देश करने हेतु यह एक प्रवृत्ति-सी हो गयी है कि प्राचीन मध्यकालीन तथा आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं की तीन अवस्थाओं का उल्लेख किया जाता है, किन्तु प्रो. ए. एम. घाटगे की राय में उनका विभाजन क्षेत्रीय आधारों पर किया जाना चाहिए।
 
उदाहरण के लिए जो उत्तर-पश्चिमी क्षेत्रों में बोली के रूप में विकसित हुई उनको उत्तरपश्चिमी, मध्यप्रदेशीय, पूर्वीय तथा दक्षिणीय विभाग उचित होंगे। इस बात के अनेक प्रमाण उपलब्ध होते हैं कि वेदों में प्राकृततत्त्व कम नहीं है। कदाचित् सर्वप्रथम स्कोल्ड ने यास्क के ‘निरुक्त’ का विवेचन करते हुए सन् 1926 में हमारा ध्यान इस ओर आकृष्ट किया था कि इन शब्दों की व्युत्पत्तियों का विचार करने पर यह स्पष्ट हो जाता है कि इनमें से कुछ ध्वनिग्रामीय विशेषताओं के आधार पर मध्यकालीन भारतीय आर्यभाषाओं की अवस्था की सूचक है।
सन् 1928 में ए.सी. वुलनर ने अपने एक निबन्ध में ‘प्राकृतिक एण्ड नान-आर्यन स्ट्रेटा इन द वाकेबुलरी ऑव संस्कृत’ जो आशुतोष मेमोरियल वाल्यूम’ में पटना में प्रकाशित हुआ था, इस विषय का परीक्षण कर ऊहापोह किया था। सन् 1931 में एच, आर्टेल ने अपने एक निबन्ध ‘प्राकृतिज्म इन छान्दोग्योपनिषद्’ (गाइगर फेलेशियन वाल्यूम, लिपजिग 1931) में ध्वनिग्रामीय दृष्टि से वैदिक ग्रन्थों में जो शब्द-रूप मिलते हैं, उनका गहराई से अध्ययन प्रस्तुत किया। तदनन्तर ब्लूमफील्ड और इजर्टन ने वैदिक पाठों में उपलब्ध विविधता तथा उनके अन्तर्भेदों पर विस्तार से प्रकाश डाला।
 
इसी समय वाकरनागल का एक महत्त्वपूर्ण निबन्ध-‘आर्यभाषाओं में प्राकृततत्त्व’ प्रकाशित हुआ। सन् 1944 से 1946 के बीच टेडेस्को ने चार लेख लिखे, जिनमें यह प्रतिपादित किया गया है परवर्ती संस्कृत-साहित्य की अपेक्षा ऋग्वेद और अथर्ववेद पर मध्यकालिक प्रवृत्तियाँ अधिक स्पष्ट रूप से लक्षित होती है, क्योंकि तब तक संस्कृत भाषा का मानकीकरण नहीं किया गया था। सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण अपने शोधपूर्ण निबन्ध में सन् 1966 में एमेन्यू ने ‘द डायलेक्ट्स आँव ओल्ड इण्डो-आर्यन’ में यह सिद्ध किया है कि पाणिनि भी प्राकृत से प्रभावित थे। उनके व्याकरण में स्पष्ट रूप से प्राकृततत्त्व लक्षित होता है। निष्कर्ष रूप में एमेन्यू लिखते हैं-
ऐसा जान पड़ता है कि कम-से-कम वैदिक संहिताओं के समय में ब्राह्मण साहित्य में ऐसे ध्वनिग्रामीय रूप उपलब्ध हैं जो समकालीन बोलियों के हैं और जिनका प्रमाणीकरण मध्यकालीन बोलियों से होता है।
 
वैदिक संस्कृत में ‘यहाँ’ के लिए ‘इह’ शब्द का प्रयोग उपलब्ध है, किन्तु पालि और शौरसेनी प्राकृत में ‘इध’ मिलता है। अवेस्ता में यह ‘इद’ है अशोक के गिरनार के शिलालेखों में भी इध शब्द का प्रयोग मिलता है। अतः इससे यह स्पष्ट है कि ‘इह’ की अपेक्षा ‘इध’ रूप प्राचीन है।
 
वेदों की भाषा में और प्राकृतों में अनेक समानताएँ लक्षित होती हैं। सबसे अधिक समानता यह है कि इन दोनों में स्वर भक्ति प्रचुरता से उपलब्ध होती है। पाश्चात्य विद्वानों में जर्मन भाषा के विद्वान रिचर्ड पिशल ने प्राकृत भाषाओं का तुलनात्मक तथा भाषा-वैज्ञानिक अध्ययन प्रस्तुत कर उल्लेखनीय कार्य किया है। यथार्थ में वैदिक भाषा के साथ प्राकृतों का तुलनात्मक अध्ययन कर उन्होंने भाषा-विज्ञान के क्षेत्र में एक नवीन दिशा प्रशस्त की है। वैदिक काल में प्रचलित जनभाषा की सबसे प्रमुख विशेषता है-विभक्तियों का परस्पर विनिमय। आर्यभाषाओं के विकास के इतिहास में यह प्रवृत्ति निरन्तर विकसित होती रही है।
 
अपभ्रंश और अवहट्ट में भी यही प्रवृत्ति मूल में लक्षित होती है। डॉ. हरदेव बाहरी के शब्दों में-
 
वैदिक काल में भी प्राकृतें थीं और जिस प्रकार वे साहित्यिक भाषा से प्रभावित होती थीं उसी प्रकार साहित्यिक भाषा को भी प्रभावित करती थीं।
 
वेद में रूपों का वैविध्य और ध्वनिद्वैध जन-भाषाओं के अस्तित्व को प्रमाणित करता है। वेद में अनेक प्रादेशिक तथा प्राकृत शब्द और प्रयोग मिलते हैं। उच्चा, नीचा, पश्चा, भोतु (सं. भवतु) शिथिर (सं. शिथिल) जर्भरी, तुर्फरी, फरफरिका (पर्फरीका) तैमात, ताबुवम, वंच, वेस (सं. वेष), दूलभ (सं. दुर्लभ), दूडम (दुर्दुम), सुवर्ग (सं. स्वर्ग), इन्दर (इन्द्र) इत्यादि वेद के शब्द प्राकृत के हैं संस्कृत के नहीं।
ब्राह्मण ग्रन्थों के अध्ययन से यह स्पष्ट हो जाता है कि वैदिक काल में कई बोलियाँ प्रचलित थीं। अफगानिस्तान से लेकर पंजाब तक पश्चिमोत्तरी बोली प्रचलित थीं। जिसमें ‘र’ की प्रधानता थी। पंजाब से मध्य उत्तर प्रदेश तक मध्यवर्ती बोली का प्रचलन था, जिसमें ‘र्-ल्’ दोनों की प्रधानता थी। पूर्वी बोली का प्रचार-प्रसार देश के पूर्वी भागों में था, जिसमें ‘ल्’ का प्राधान्य था।1 टी. पी. भट्टाचार्य के अनुसार ब्रह्मोपासना तथा तीर्थकरों की अवधारणा में समानता लक्षित होती है। दोनों के दार्शनिक विचारों में साम्य है। प्राग्वैदिक फोनेशियन वैदिक काल में पणि कहे जाते थे जो उत्तरवर्ती काल में व्रात्य तथा वणिक् कहे गये।
 
ऑर्टेल, वाकरनागल, टेडेस्को और जी.वी. देवस्थली के उन शोध कार्यों से यह निश्चित हो जाता है कि ब्लूमफील्ड और एजर्टन ने जिन ‘वैदिक वेरिएण्टस्’ का संकलन किया था, उनमें जो ध्वन्यात्मक रूप उपलब्ध होते हैं, वे अधिकतर मध्यकालीन भारतीय बोलियों से बहुत कुछ समानता लिये हुए हैं। यहाँ तक कि पाणिनी कात्यायन और पजंतलि की रचनाओं में भी प्राकृत का प्रभाव परिलक्षित होता है। यदि इतिहास के परिप्रेक्ष्य में विचार किया जाए, तो वेदों में उल्लिखित पणि, असुर और व्रात्यों की भाषा मृदुवाक, मधुरवाणी प्राकृत ही थी। ‘व्रात्य’, शब्द का अर्थ है-व्रत से निष्पन्न। व्रात्यों का यश: कीर्तन ‘ऋग्वेद’ के अनेक सूक्तों में किया गया है।
 
‘अथर्ववेद’ के पन्द्रहवें काण्ड का नाम ही ‘व्रात्यसूक्त’ है। ‘ऋग्वेद’ में स्पष्ट शब्दों में निर्वचन किया गया है3-जो भूतल पर मूर्धस्थानीय है अहिंसक हैं अपने यश और व्रतों की अद्रोह से रक्षा करते हैं, वे व्रात्य हैं।” यही नहीं, ‘वेदमीमांसा’ (पृ. 95) में ज्येष्ठ व्रात्य को ‘अर्हत्’ शब्द से निर्दिष्ट किया गया है। व्रात्यों की भाषा को प्राकृत मानने का आधार ‘शाक्यायन श्रौतसूत्र’ (१६५।१००।२८) है। ‘ताण्ड्य ब्राह्मण’ के उल्लेखों से भी यह स्पष्ट होता है कि यज्ञ-याग के विरोधी और वेदों का पठन किये बिना, अदीक्षित ही ज्ञान की चर्चा करने वाले स्वसम्बुद्ध ज्ञानवादी व्रात्य थे। डॉ. शारदा चतुर्वेदी के शब्दों में प्राकृत युग के तीर्थकर और बौद्ध से आरम्भ कर आज के नाथ सम्प्रदाय एवं आधुनिक युग का आउल-बाउल सभी संप्रदाय व्रात्यदलों के हैं। चिरकाल से ही ये लोग अपने तात्त्विक सिद्धान्त अप्रमार्जित प्राकृत भाषा में कहते हैं। इस तरह इस निष्कर्ष पर पहुँचा जा सकता है कि व्रात्यों की यह प्राकृत भाषा आज के नाथ संप्रदाय और आउल-वाउल संप्रदाय तक प्राकृत भाषा के रूप में चली आ रही है। वास्तव में यह वणिकों तथा व्रतियों की भाषा रही है।
 
यथार्थ में वेदों तथा वैदिक युग की रचना से लेकर आज तक जो भी साहित्य उपलब्ध होता है, वह स्पष्ट रूप में प्राकृतों की छाप लिये हुए है। इस देश के किसी एक भाग में नहीं, किन्तु उत्तर से पश्चिम, पश्चिम से पूर्व तथा पूर्व से दक्षिण तक की लगभग सभी भाषाएँ एवं बोलियाँ प्राकृत से प्रभावपन्न रही हैं। उदाहरण के लिए निम्नलिखित शब्द हैं-चरु (ऋग्वेद 9, 52, 3) बृहत् काष्ठपात्र। प्राकृत में यह ‘चरु’ बुन्देली बिहारी में ‘चरुआ’ व्रज में ‘चरुवा’ हिन्दी में ‘चरु’ ‘चरुआ’ गुजराती में चरु मराठी में लंहदा में चर्वी और सिन्धी में ‘चरू’ है। इसी प्रकार के शब्द हैं-दूलह (अथर्व, 4, 9, 8,) प्राकृत में ‘दूलह’ हिन्दी में ‘दूलह’ हैं। पंजाबी में ‘दूलो’ सिन्धी में ‘दुलहु’, मैथिली में ‘दुल्हा’, राजस्थानी-गुजराती ‘दूलो’ नेपाली में ‘दूलोहो’ एवं व्रज-बुन्देली अवधी आदि में ‘दूलह’ आज भी प्रचलित है। ‘ऋग्वेद’ में प्रयुक्त उच्चा ( 1, 123, 2) नीचा (2, 13, 12) तथा वो (1, 20, 5) आदि शब्द आज भी हिन्दी तथा अन्य भारतीय भाषाओं में ऊँच-नीच वो (लोग) रूप में प्रचलित हैं।
 
यथार्थ में आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं को वेदों से तथा वैदिक युग की बोली से जोड़ने वाली भाषा-परम्परा की कड़ी का नाम प्राकृत है। यह एक ओर जहाँ कुछ बातों में भारोपीय भाषाओं से विशेषतः अवेस्ता से साम्य लिये हुए हैं, वहीं ऐसी विशेषताएँ भी सहेजे हुए है जो इसकी अपनी मौलिकता को प्रकाशित करने वाली है। ह्रस्व ऍ, ऑ का प्रयोग प्राकृत अपभ्रंश की मौलिक विशेषता है। भले ही कालान्तर में लोकभाषा में ऍ, ऑ, का प्रयोग प्रचलित नहीं रहा हो, किन्तु आज तक भाषा का यह प्रवाह इन स्वर-ध्वनियों को सुरक्षित बनाये हुए है। प्राकृतों में और वेदों में एक स्वर के स्थान पर दूसरे स्वर के विनिमय की प्रवृत्ति लक्षित होती है, जैसे कि-‘तन्वम्’ के लिए तनुवम्, (तै. सं. 7-22-1) ‘सवर्ग’ के लिए ‘सुवर्ग’ (तै. सं. 4-2-3) ‘गोष’ के लिए ‘गोषु’ गच्छति (ऋक् सं. 1,83,1) ‘तम्’ के लिए ‘तमु’ (ऋक् सं. 10,107,6) ‘नु’ (ऋक् सं. 10,168,1) इत्यादि। इसी प्रकार वैदिक भाषा में मूर्धन्य ध्वनियों का प्रयोग ‘न’ के स्थान पर ‘ण’ का प्रयोग द्विवचन के स्थान पर बहुवचन का प्रयोग शब्दरुपों में वैकल्पिक प्रयोग, विभक्ति तथा क्रिया-रूपों में लाघव, कृदन्त प्रत्ययों का सरलीकरण आदि विशेषताएँ उसमें प्राकृत-तत्त्व के सम्मिश्रण को सूचित करने वाली है।
 
प्राकृत में यह अन्तर अवश्य है कि प्राचीन भारतीय आर्यभाषा के ‘ऋ’ वर्ण का अभाव है। इसके स्थान पर प्राकृत में अ, इ, उ, ए आदि का प्रयोग मिलता है। अतः प्रो. विल्सन भी मुक्त भाव से यह स्वीकार करते हैं कि प्राकृत उस बोली का प्रतिनिधित्व करती है जो किसी समय में बोली जाती थी। क्योंकि आज जनभाषाओं के जो परिवर्तित रूप उपलब्ध होते हैं, उनके परिवर्तन की जानकारी प्राकृत व्याकरण से ही मिलती है। विशुद्ध काल-व्यापिता की दृष्टि से देखा जाए तो मध्यकालीन भारतीय आर्यभाषाओं और बोलियों का विनियोग प्राचीन भारतीय आर्यभाषाओं की अपेक्षा अधिक व्यापक है।
 
डॉ. वैद्य के अनुसार आज हमें अपभ्रंश से एक प्राकृत भाषा का ही बोध होता है। जिसकी विशेषता चण्ड, हेमचन्द्र, त्रिविक्रम, पुरुषोत्तम, मार्कण्डेय तथा अन्य वैयाकरणों द्वारा निश्चित है। अपभ्रंश का अध्ययन भारत की आधुनिक भाषाओं के-विशेषतः हिन्दी, गुजराती, मराठी, बँगला तथा उनकी उपभाषाओं के विकास को ठीक-ठीक समझने के लिए अत्यावश्यक है।”
 
प्राचीन भारतीय आर्यभाषाओं के विकास-क्रम में प्राकृत तथा अपभ्रंश भाषाओं का महत्त्वपूर्ण योग रहा है। ये भाषाएँ विभिन्न युगों में बोली तथा भाषाओं में होने वाली परिवर्तनों की संसूचक है। डॉ. चटर्जी ने ठीक ही कहा है कि ‘वैदिक’ शब्द का ‘संस्कृत’, ‘प्राकृत’ और भाषा का प्रयोग संक्षिप्त और सुविधा के लिए तथा भारतीय आर्यभाषाओं की तीन अवस्थाओं के लिए किया गया है, और ‘प्राकृत’ तथा ‘भाषा’ के मध्य में संक्रमणशील अवस्था जो कि प्राकृत या मभाआ की ही एक अंग थी, सुविधा की दृष्टि से ‘अपभ्रंश’ कही जाती है।
Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

प्रत्याख्यान

यह एक अव्यवसायिक वेबपत्र है जिसका उद्देश्य केवल सिविल सेवा तथा राज्य लोकसेवा की परीक्षाओं मे हिन्दी साहित्य का विकल्प लेने वाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है। यदि इस वेबपत्र में प्रकाशित किसी भी सामग्री से आपत्ति हो तो इस ई-मेल पते पर सम्पर्क करें-

mitwa1980@gmail.com

आपत्तिजनक सामग्री को वेबपत्र से हटा दिया जायेगा। इस वेबपत्र की किसी भी सामग्री का प्रयोग केवल अव्यवसायिक रूप से किया जा सकता है।

संपादक- मिथिलेश वामनकर

वेबपत्र को देख चुके है

  • 2,696,459 लोग

कैलेण्डर

सितम्बर 2008
रवि सोम मंगल बुध गुरु शुक्र शनि
« अगस्त   अक्टूबर »
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
282930  

वेब पत्र का उद्देश्य-

मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, छत्तीसगढ, बिहार, झारखण्ड तथा उत्तरांचल की पी.एस.सी परीक्षा तथा संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा के हिन्दी सहित्य के परीक्षार्थियो के लिये सहायक सामग्री उपलब्ध कराना।

यह वेब पत्र सिविल सेवा परीक्षा मे हिन्दी साहित्य विषय लेने वाले परीक्षार्थियो की सहायता का एक प्रयास है। इस वेब पत्र का उद्देश्य किसी भी प्रकार का व्यवसायिक लाभ कमाना नही है। इसमे विभिन्न लेखो का संकलन किया गया है। आप हिन्दी साहित्य से संबंधित उपयोगी सामगी या आलेख यूनिकोड लिपि या कॄतिदेव लिपि में भेज सकते है। हमारा पता है-

mitwa1980@gmail.com

- संपादक

भारत के सर्वश्रेष्ट ब्लॊग

%d bloggers like this: